Hydroponic farming kaise kare:हायड्रोफोनिक फार्मिंग क्या है ? कैसे करे

नमस्कार आप सभी का हमारे नए लेख में स्वागत है अभी आधुनिक टेक्नोलॉजी का युग चल रहा है दिन प्रतिदिन टेक्नोलॉजी विकसित हो रही है उसके साथ-साथ किसान भी अब नई नई टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए अपनी फार्मिंग करते हैं उसमें नई-नई फार्मिंग की पद्धतियों को  यजमाते हैं आज हम आपको ऐसे ही नई टेक्नोलॉजी से बनी हुई फार्मिंग पद्धति को की बारे में जानकारी देंगे जिसका नाम है हाइड्रोपोनिक फार्मिंग यानी की मिट्टी रहित खेती तो आज हम यह हाइड्रोपोनिक फार्मिंग यानी की मिट्टी रहित खेती कैसे होती है उसके बारे में जानेंगे यह लेख आप पूरा ध्यान से पढ़ें आपको सब जानकारी है पर प्रदान होगी

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग क्या है। (What is hydroponic farming)

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग एक मिट्टी रहित खेती है जो जर्मनी में खोजा गया था जूलियस सैक्स ने पहली बार पानी में पोषक तत्व डालकर पानी में पौधे उगाए थे अभी हाइड्रोपोनिक फार्मिंग के केंद्र यूरोप अमेरिका कनाडा जापान ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड और भारत जैसे देश में पाए जाते हैं हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में मिट्टी के  जगह कोको पीट या डायरेक्ट पानी में पोषक तत्व डालकर किया जाता है हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में पौधों की जड़ों को पानी में स्थापित करते हैं वह पानी ऑक्सीजन और पोषक तत्वों से संगठित होता है पानी पोषक तत्व ऑक्सीजन और खाद्य पदार्थों को उचित मात्रा में प्रदान करता है जिसको जल संचालन प्रणाली का उपयोग किया जाता है पौधे को इस प्रकार की प्रणाली में उचित देखभाल और उसकी मानवजत की आवश्यकता होती है

हयड्रोफोनिक फार्मिंग के तरीकें  (Hydrophonic Farming Methods)

हयड्रोफोनिक फार्मिंग अपनी पाक, जगह और उपयोगिता के आधार से हम कई तरीकों से कर सकते है जिसकी जानकारी नीचे है।

एरोपोनिक्स-

हायड्रोफोनिक फार्मिंग में कई कई तरीको से फार्मिंग की जासकती है जिसके अन्दर एक तरीका एरोपोनिक्स फार्मिंग का भी है जिसके अन्दर पौधे के अन्दर जिसके अन्दर पौधे एक कक्ष में समानित होते है जो पोषक तत्त्व और ओक्सिजन युक्त पानी का लगातार छंटकाव किया जाता है इस के अंदर पौधे की जड़ो हवा मे लटकती हुई रहती है जिसके जरिये पौधेका विकास भी बहोत अरछेसे से होता है 

एरोपोनिक्स फार्मिंग एक टेक्निक है जिसके जरिये आप आलू को भी हवामे उगा सकते हो इसके फायदे की बात करे तो ये जमीन के मुताबित ये पानी एक चौथाई भाग में तैयार होजाती है इस टेक्नोलॉजी फार्मिंग के अंदर उसके पौधे के कक्ष हवामें लटकते हुए रहते है जिसके जरिये वो शुदय ऑक्सीजन लेते है इसके ऊपर हामें पोषक के रूपमे लगातार स्प्रेय करना होता इस तकनीक में जमीन के मुताबित कही ज्यादा उत्पादन मिल सकता है इसी तरीके से एरोपानिक फार्मिग कही लाभदयाक बन सकता है।

ग्रेविटी फेड सिस्टम – 

ये सिस्टम के अन्दर पोषक तत्वों वाला पानी प्रसारित करना होता है जिसके अंदर बिजली की जरुरत नहीं पड़ती ये सिस्टम के अन्दर पौधों की संक्या के अनुसार एक बड़ा कंटेनर होता है जिसके अन्दर पौधों के निचे लगातार पोषकतत्त्व युक्त पानी को प्रसारित करना होता है ये फार्मिंग टेक्निक उस पौधे के किये उपयोग कर सकते है जीस पौधे को गमले में उगा सकते है और गमले के आधार से पानी दियाजा सकता है क्युकी पौधे के जड गमले तक पानी खीच सके 

गहरे पानी की सिस्टम-

इस सिस्टम के अन्दर पोषक तत्वों से युक्त पानी होता है जिसमे पौधे को अपने जड के साथ जाली की मदद से पानी के अन्दर उगाने होते है इस सिस्टम के अंदर पौधे को अलग रखने के लिए अन्य सामग्री हो सकती है और नहीं भी इस सिस्टम के अंदर पानी में ओक्सिजन की कमी पूरी करने के लिए बहार की हवा को पम्प की माद्यम से अन्दर डालते है 

हायड्रोफोनिक फ्फर्मिंग के लाभ (Benefits of hydrophonic forming)

इस तकनीक का उपयोग करके आप ज्यादा से ज्यादा पानी का बचत कर सकते हैं

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में 90% पानी की बचत हो सकती है

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में परंपरागत खेती के अनुसार कम जमीन में ज्यादा पौधे लगाकर ज्यादा प्रोडक्शन ले सकते हो

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में आने वाली फसल जंतु नाशक फर्टिलाइजर से रहित होती है

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग एक बूंद स्ट्रक्चर में होने ललित फार्मिंग है इसीलिए मौसम की हमारे फसल पर कोइ असर नहीं पड़ती है

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में हम किसी भी फसल को किसी भी टाइम निकाल सकते हैं क्योंकि वह बंद स्ट्रक्चर में टेंमपरेचर को मेंटेन कर सकती है

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग से होने वाले नुकसान (Disadvantages of Hydroponic Farming)

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग के लिए जो पॉलीहाउस लागत बहुत ज्यादा आती है

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग नियर पॉलीहाउस उसके साथ उसका सेट अप करना भी बहुत महंगा होता है इसलिए किसान हाइड्रोपोनिक फार्मिंग करने से डरते हैं हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में उसकी लागत ही यही मुख्य कारण है उसकी तुलना में सामान्य खेती उसे कम खर्च में होती है उसे उसके लिए वह आसानी से पारंपरिक खेती कर सकते हैं

बअगर आप समय के अनुसार हायड्रोफोनिक फार्मिंग में पानी की पीएच और टीडीएस का क्याल नहीं रखते हो तो आपका व्यवसाय पार खतरा है उसके साथ साथ ओक्सीजन का भी क्याल रखना जरुरी है 

हायड्रोफोनिक फ़ार्म सेटअप को एक जगह से दूसरी जगह स्थलांतरित करना खूब महंगा बन सकता है 

हाइड्रोफोनिक फार्मिंग में सेटअप खड़ा करने में समय लगता है 

इसके आलावा छोटे- मोटे कही नुकसान हायड्रोफोनिक फार्मिंग में आते है 

हाइड्रोपोनिक फार्मिंग में आने वाला खर्चा (cost of hydroponic farming)

हायड्रोफोनिक फार्मिंग में आने वाला खर्चा आपनी स्थान  और गाव या शहेंर के हिसाब से आती है उसके अलावा आपनी पोलिहाउस बनाने की जगह और आपने प्रोजेक्ट कितना बडा है उसके ऊपर निर्भर करता है उअके आलावा उपयोग होने वाले साधन की कवोलेटी पर निर्भर करता है आप किस प्रकार का मट्रियल उपयोग करते हो अंदाजी एक बार हायड्रोफोनिक फ़ार्म बनाने की कोस्ट की बात करे तो 15 से 20 लाख तक आती है अगर प्रोजेक्ट बड़ा हो तो उसे भी ज्यादा आती है 

घर मे हायड्रोफोनिक फ्फर्मिंग (Hydroponic farming at home)

हायड्रोफोनिक फार्मिग अपने घर में करना संभव है लेकिन उसके लिए आपको 1से2 कमरे की आवश्कता होगी जिसमे आप आपने तरीके से स्टक्चर बनके हायड्रोफोनिक फार्मिंग कर सकते है आगर उसके आलावा आप आपने लिए ही हायड्रोफोनिक फार्मिंग करना चाहते हो एक रूम मे स्टक्चर बनाये बिना आप गमले में मिट्टी के बिना कोकोपिट का उपयोग करके कर सकते हो 

नोट:- ये लेख प्रदशित करने का मुख्या उदेश्य आपको सिर्फ माहिती प्रधान करने का है कुछ भी कदम लेनेसे पहले आपने तरीके से खुद माहिती ले अगर ये लेख आपको पसंद आया हो तो आपने दोस्तों को जरुर भेजे

अन्य पढ़े :-

पासपोर्ट कैसे बनवाये ?

फ्री सोलर पेनल योजना

प्रधान मंत्री मुद्रा लोन योजना

FAQ:-

हाइड्रोपोनिक खेती में कितना खर्चा आता है?

हायड्रोफोनिक फार्मिंग में खर्चा अपनी जगह और अपने प्रोजेक्ट कितना बड़ा है उसके ऊपर निर्भर करता है उसके साथ आपने उपयोग की हुई मटरियल की क्वोलेटी के ऊपर निर्भर करता है अंदाजित खर्चे की बात करे तो 15 से 20 लाख तक आ सकता है

हाइड्रोपोनिक कैसे बनाएं?

हायड्रोफोनिक एक तकनीक है जिसके अन्दर मिट्टी रहित खेती होती है जिसके अन्दर पौधे को पानी में दुबोके रखते है वों पानी पोषक तत्व और ओक्सिजन युक्त होता है पानी में पौधे उगाने की प्रक्रिया को हायड्रोफोनिक कहते है

कौन सी फसल हाइड्रोपोनिक?

हायड्रोफोनिक फार्मिंग में आप जानना चाहते हो की कीस प्रकार के पौधे उअगाये जा सकते है तो टमाटर,ककड़ी,पालक,धनिया बैगन उसके आलावा कही पौधे लगाया जा सकता है

हाइड्रोपोनिक तकनीक क्या है?

हायड्रोफोनिक फार्मिंग एक तकनीक है जिसके अन्दर मिट्टीके बिना आप पानी में पौधे को उगा सकते हो इसमें आपको सभी प्रकार के खनिज और पोषक तत्व पानी के अंदर देने होते है

हाइड्रोपोनिक महंगा है?

हायड्रोफोनिक महँगा तो है लेकिन उसके सामने कम जमीन में ज्यादा उत्पादन ले सकते है और किसी भी फसल को हर टाइम उगा सकते है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment

WhatsApp Group Button